आकाश विजयवर्गीय ने जिनका घर बचाने के लिये निगम वालो को पीटा, उनका क्या कहना है?

743

इन दिनों में इंदौर की राजनीति काफी ज्यादा गरमाई हुई है क्योंकि जिस तरह से नगर निगम और कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय के बीच कहासुनी हुई और उसके बाद आकाश ने बैट चलाया उसके बाद तो मानो पूरी एमपी की राजनीति में भूचाल सा आ गया और लोग काफी परेशानी में आ गये क्योंकि अब विधायक आकाश को न सिर्फ गिरफ्तार किया गया बल्कि वो 15 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में चले गये है. ऐसे में जिस मकान को बचाने के लिए वो लोग गये थे उन लोगो का क्या कहना है चलिए जानते है?

मकान के मालिक और बुजुर्ग व्यक्ति का कहना है कि निगम के कर्मचारी हमारे घर के अन्दर जबरदस्ती घुस आये और उन्होंने हमारी बहू के साथ बदतमीजी की. उन्होंने हमारी बहू के सीने पर भी हाथ रखा जिसे बर्दाश्त नही किया जा सकता. हमने आकाश जी को मदद के लिए बुलाया और उन्होंने हमारी मदद की.

इसके बाद जब घर की महिलाओं से एक मीडिया समूह ने बात की तो उन्होंने बताया कि उनका मकान जर्जर हालत में नही है और उसे तोड़ने की जरूरत भी नही है. आप चाहे तो जाकर के देख सकते है. वो ये भी बताती है कि ये मकान उनका ही है उनका न होने का लगने वाले सारे आरोप बिलकुल झूठ है. इन सबके बाद में परिवार के लोग जो भी है या फिर आस पास मौजूद लोग आकाश विजयवर्गीय द्वारा उठाये गये कदम और बैट द्वारा की गयी पिटाई को भी जस्टिफाई किया और कहा उन्होंने जो भी किया सही किया.

अगर आपको जानकारी न हो तो बता दे इंदौर के एक इलाके में नगर निगम के कुछ कर्मचारी एक मकान को तोड़ने पहुंचे थे जहाँ पर उन्होंने रोकने आकाश पहुँच गये और उन्होंने पहले उन्हें रोका और फिर गुस्सा आने पर बैट का भी इस्तेमाल कर दिया.