स्मृति ईरानी अब अमेठी में वो करने जा रही है जो कोई गाँधी नही कर पाया

1047

स्मृति ईरानी ने जिस तरह से राहुल गांधी को हराकर के अमेठी पर अपनी विजय हासिल की है वो अपने आप में अविश्वसनीय है. गांधी परिवार के किले को ध्वस्त करके और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराकर स्मृति ईरानी ने अमेठी में अपनी पताका फहरायी है और इस महाविजय के बाद कही न कही अमेठी की जनता के उनसे उम्मीदे काफी ज्यादा बढ़ चुकी है.

ऐसी स्थिति में स्मृति ईरानी भी अमेठी में अपने कामो में लग चुकी है, लगातार विकास कार्यो पर नजर रख रही है और डीएम से मिलकर स्थितियों का जायजा ले रही है. ये सब तो छोटी बाते है स्मृति ईरानी वो करने जा रही है जो राहुल गांधी भी नही पाये.

स्मृति ईरानी ने निर्णय लिया है कि अब वो अमेठी को ही अपना स्थायी निवास बनायेगी. हालंकि इस क्षेत्र से गांधी परिवार परम्परागत तौर पर जीतते आये है लेकिन उनका अधिकतर समय दिल्ली में ही कटा है. वो महज चुनावी मौसम में ही यहाँ पर नजर आते थे लेकिन स्मृति ईरानी ने फैसला किया है कि वो अमेठी में ही अपना खुदका एक नया मकान बनवायेगी. वही पर ही रहेगी और तो और अमेठी में ही उनका स्थायी पता भी अमेठी में ही रहेगा. आज तक अमेठी में इतनी संवेदनशीलता किसी भी सांसद के द्वारा नही दिखाई गयी है.

हालांकि स्मृति ईरानी को काफी या फिर यूँ कहिये अधिकतर समय दिल्ली में ही बिताना पड़ेगा क्यूंकि वो एक केबिनेट मिनिस्टर है लेकिन उनका दावा है कि वो अपने स्थायी निवास पर भी मौजूद मिलती रहेगी ताकि अमेठी को वो सब मिल सके जिसकी वो हकदार है. स्मृति ईरानी ने अपने घर के लिए अमेठी के गौरीगंज को चुना है जहाँ पर वो रहेगी और क्षेत्र के विकास कार्यो पर नजर रखेगी. लोग न सिर्फ स्मृति ईरानी ने इस कदम की प्रशंसा कर रहे है बल्कि बाकी सांसदों को भी उनसे सीख लेने को कह रहे है.