अब नही चलेगी टुकड़े टुकड़े गैंग की मनमानी, योगी सरकार का बड़ा फैसला

337

देश दिन दोगुनी और रात चौगुनी तरक्की कर रहा है, हर तरफ से फल फूल रहा है लेकिन ऐसे में देश के भीतर ही कई सारे दुश्मन भी पैदा हो रहे है. चाहे वो किसी भी रूप में हो और आम तौर पर उन्हें टुकड़े टुकड़े के नाम से मशहूर कर दिया गया है. ये वो लोग है जो कही न कही विश्वविद्यालयों के माध्यम से छात्रो में देश के खिलाफ जहर बो रहे थे लेकिन अब योगी आदित्यनाथ ये ठान कर के बैठ गये है कि वो ऐसा नही होने देंगे और इस पर एक अध्यादेश भी पारित कर दिया गया है.

योगी आदित्यनाथ की सरकार ने एक अध्यादेश जारी किया है जिसमे उत्तर प्रदेश के कुल 27विश्वविद्यालय आते है. अध्यादेश के अनुसार सभी विश्वविद्यालयो को एक शपथ पत्र देना होगा जिसमे लिखा होगा कि वो अपने केम्पस में किसी भी प्रकार की राष्ट्रविरोधी गतिविधि नही होने देंगे और अगर ऐसा होता है तो सरकार को उनके खिलाफ कार्यवाही करने का पूरा अधिकार होगा.

योगी सरकार के इस फैसले के बाद में विश्वविद्यालयो में बढ़ रहे लेफ्ट उग्रवाद को कम करने में सहायता मिल सकती है जो अर्बन नक्सलवाद को बढ़ावा देने का काम कर रहा है. केशव प्रसाद मौर्य ने इस पर खुलक्र बातचीत की है और कहा है कि हम चाहते है विश्वविद्यालयो का काम सिर्फ शिक्षा पर केन्द्रित हो और वहाँ पर राष्ट्रविरोधी गतिविधियों को रोका जा सके. हालांकि विपक्षी दल सपा के नेता अखिलेश यादव का कहना है कि इससे विश्वविद्यालयों के बीच भय का माहौल बनेगा और यूपी में नयी प्राइवेट यूनिवर्सिटीज ही नही खुलेगी.

विश्वविद्यालयो में संवेदनशीलता सरकारो की तरफ से तब बढ़ी जब जेएनयू में अफजल की बरसी बनाने और भारत विरोधी नारे लगाने के आरोप लगे और इसमें कन्हैया, उम्र और शेहला जैसे युवा छात्रो को आरोपी बनाया गया. मामले की जांच पूरी न हो सकी लेकिन इसने लोगो के मन में एक डर जरूर पैदा कर दिया है कि आखिर बच्चे यूनिवर्सिटीज में जाकर ये सब करते क्या है?