चन्द्रबाबू को शाह का बहुत बड़ा झटका, कहीं के नही रहे नायडू

593

चन्द्रबाबू नायडू जिस तरह से राजनीति कर रहे है उसके चलते उनका सूरज लगातार डूबता चला जा रहा है और अब हालत ये हो गयी है कि उनके अपने भी उनका साथ छोड़कर के जा रहे है लेकिन नायडू को उनके ही अपने लोग जिन्हें उन्होंने चुनकर के भेजा है वो लोग ऐसा झटका देंगे इसकी कल्पना न थी. चन्द्रबाबू नायडू की पार्टी के कई बड़े बड़े लोगो ने उनकी पार्टी छोड़ी है और वो बीजेपी में जा मिले है लेकिन उनका चले जाना मतलब टीडीपी का राज्यसभा में अस्तित्व ही खतरे में ले आने जैसा है.

4 टीडीपी राज्यसभा सांसद बीजेपी में शामिल
दरअसल चन्द्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी के चार राज्यसभी सांसद सीएम रमेश, टीजी वेंकटेश, जी मोहन राव और वाईएस चौधरी एक साथ बीजेपी में शामिल हो गये है. बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उनका स्वागत किया और ये चन्द्रबाबू नायडू के लिए बड़ा झटका है क्योंकि उनके पास राज्यसभा में सिर्फ 6 सांसद थे जिसमे से 4 बीजेपी में जा चुके है.

दलबदल क़ानून में फंस सकते है सांसद?
अब सवाल ये उठता है कि टीडीपी द्वारा चुने जाने के बाद में अगर राज्यसभा सांसद बीजेपी में शामिल होते है तो क्या वो दलबल क़ानून में नही फंस जायेंगे? तो इसका जवाब है बिलकुल भी नही क्योंकि अगर किसी पार्टी के दो तिहाई सदस्य चाहे तो वो दूसरी पार्टी में अपना विलय कर सकते है और इस अधिकार से वो अपना अलग गुट बनाकर बीजेपी में शामिल होने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र है.

असंतोष के कारण छोड़ रहे पार्टी
जिस तरह से चन्द्रबाबू नायडू की राजनीति पिछले कुछ समय में बदली है. अपने पार्टी के लोगो के न चाहते हुए भी उन्होंने एनडीए से गठबंधन तोडा और इसके बाद विधानसभा चुनावों में भी वो महज 23 सीट्स ही जीत पाये जिसके चलते पार्टी में उनके खिलाफ असंतोष बढ़ता चला जा रहा है और उसी का परिणाम आज 4 राज्यसभा सांसदों के पार्टी छोड़ देने के रूप में सामने आया है.