अमित शाह गृह मंत्रालय में व्यस्त, बीजेपी को मिला नया कार्यकारी अध्यक्ष

77

भारतीय जनता पार्टी अपने आंतरिक लोकतंत्र के अनुसार एक बार फिर से केन्द्रीय नेतृत्व में बदलाव की ओर आगे बढ़ रही है. सन 2014 में अमित शाह ने बीजेपी की कमान बतौर अध्यक्ष संभाली थी और उनकी अगुवाई में बीजेपी ने न सिर्फ दो बार लोकसभा में सरकार बनायी बल्कि भारत के कई राज्य भी जीते लेकिन अमित शाह गृह मंत्री बन चुके है और जिस दिन ये घोषणा हुई तभी तय हो गया कि अब बीजेपी अध्यक्ष पद से विदाई की तारीख नजदीक आ गयी है और आखिर में जाकर हुआ भी ऐसा ही है.

जेपी नड्डा बने बीजेपी के नये कार्यकारी अध्यक्ष
अमित शाह फ़िलहाल अध्यक्ष बने हुए है मगर गृह मंत्रालय में उनकी व्यस्तता के चलते बीजेपी ने एक नया कार्यकारी अध्यक्ष चुन लिया है जो अमित शाह की गैर मौजूदगी में अध्यक्ष पद के सारे काम देखेगा और वो है जे पी नड्डा. बीजेपी की उच्च स्तरीय मीटिंग में सर्वसम्मति से जेपी नड्डा को बीजेपी का कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया गया है जबकि अगले कुछ समय तक अमित शाह अध्यक्ष बने रहेंगे ताकि बीजेपी को अचानक से उनकी गैर मौजूदगी का एहसास न होने लगे.

कौन है जेपी नड्डा?
जेपी नड्डा पटना में जन्मे और पटना विश्वविद्यालय से ही शुरू की पढ़ाई की और इसके बाद शिमला से वकालत में डिग्री हासिल की. भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे और साथ ही साथ राज्यसभा के सदस्य भी रह चुके है. इसके बाद उन्होंने इस बार यूपी की कमान संभाली थी और बीजेपी को अधिकतम सीट्स दिलवाने में भी कामयाब रहे. इन सभी के बाद उन्हें बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष का पद मिला है और संभव है आगे जल्द ही वो पूर्ण राष्ट्रीय अध्यक्ष भी बन जाये.

कम नही है चुनौतियाँ
अमित शाह के स्तर तक पहुंचकर पार्टी को बैलेंस में रखना, गठबंधन के साथियों को जोड़े रखना और साथ ही साथ आने वाले बंगाल और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में होने वाले चुनाव जेपी नड्डा के लिए कोई छोटी चुनौतियां नही है.