बंगाल में डॉक्टरो के बाद शिक्षको का प्रदर्शन शुरू, मोहन भागवत ने साधा ममता पर निशाना

150

पश्चिम बंगाल में दिन ब दिन शासन और प्रशासन की व्यवस्था खराब होती चली जा रही है जहाँ पहले तो डॉक्टर लगभग एक हफ्ते से हड़ताल पर है और अपनी सुरक्षा को लेकर के वो सरकार से मांग कर रहे है. उन्हें बदमाशो के द्वारा घुसकर के पीटा जाता है जो अपने आप में बेहद ही संगीन मसला है. ऐसे में राज्य सरकार की बेरूखी शक के घेरे में है और ये मामला अभी शांत भी नही हुआ कि बंगाल के शिक्षको ने ममता बनर्जी के खिलाफ प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है.

शिक्षको ने किया धरना प्रदर्शन
बंगाल में अपनी मांगो और वेतन वृद्धि के मामले को लेकर शिक्षको ने कलकत्ता के विकास भवन के पास बहुत ही बड़ी संख्या में धरना प्रदर्शन किया. पुलिस ने उन्हें रोकने की और वापिस भेजने की कोशिश भी लेकिन शिक्षको ने ममता बनर्जी के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है और अपनी नाखुशी भी जाहिर की है.

मोहन भागवान ने उठाये सवाल
ममता बनर्जी के राज काज में जो कुछ भी हो रहा है उसके बाद में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भी ममता बनर्जी को निशाने पर लेते हुए कहा ‘ जिस राजा के राज्य में प्रजा सुरक्षित नही होती है उसे राजा कहलाने का अधिकार नही है. आखिर चल क्या रहा है बंगाल में? और किसी राज्य में भी ऐसा चुनाव के बाद होता है क्या? अगर कुछ व्यक्तियो के कारण ऐसा होता है तो उसके खिलाफ प्रशासन को कार्यवाही करनी चाहिए.’

बंगाल में जिस तरह से राजनीतिक रंजिशे बढ़ रही है, मुख्यमंत्री अपने तानाशाही रूख पर कायम है, डॉक्टर और शिक्षक हड़ताल कर रहे है और प्रशासन हाथ पे हाथ धरे बैठा हुआ है जिसके बाद देश भर में बंगाल को लेकर के लोगो के मन में संवेदना जग रही है कि किसी न किसी तरह से बंगाल में एक स्थिर सरकार बने और लोग शान्ति से रह सके.