पहले ममता बनर्जी की गलती बंगाल ने भुगती, अब पूरा देश भुगतेगा

356

पश्चिम बंगाल में जिस तरह से शासन और प्रशासन की व्यवस्था खराब होती चली जा रही है और ऐसे में डॉक्टर भी हमले का शिकार हुए. इसके बाद आरोपियों पर कार्यवाही में भी ढीलाई हुई जिसके बाद सरकार के खिलाफ डॉक्टर्स ने एक तरह से विद्रोह ही कर दिया. बंगाल के डॉक्टर अपने ऊपर होने वाले हमलो के विरोध में हड़ताल पर उतर आये है और धीरे धीरे बंगाल में हो रहे इस अत्याचार की आवाज पूरे देश में फ़ैल गयी और इसमें कही न कही ममता बनर्जी की गलती न होती तो आज देश को मेडिकल दिक्कतों का सामना ही न करना पड रहा होता.

क्या है पूरा मामला?
दरअसल बंगाल में जब डॉक्टर्स पर कुछ लोगो ने हमला कर दिया और उन्हें राजनीतिक शह मिलने के आरोप लगने लगे तो बंगाल के डॉक्टर हड़ताल पर उतर आये और उन्होंने न सिर्फ अपने लिए सुरक्षा की मांग की बल्कि बंगाल सरकार की मुख्यमंत्री से हॉस्पिटल में आकर सब मामला देखने और माफ़ी की भी मांग की.

अगर ममता बनर्जी नही भड़कती तो ऐसे हालात पैदा न होते
डॉक्टर्स की हड़ताल देखकर के ममता बनर्जी काफी भड़क गयी और उन्होंने इस्तीफा ही दे देने के लिए कह दिया. यही नही उन्होंने इसे राजनीतिक हरकत और उन पर बाहरी होने जैसे आरोप भी लगाये. जिसके फलस्वरुप डॉक्टर्स इतने ज्यादा भड़क गये कि पश्चिम बंगाल में पिछले एक हफ्ते से डॉक्टर्स काम पर नही जा रहे है और सारे बीमार नागरिक अपनी तकलीफ से तड़प रहे है. उनकी मांग है ममता बनर्जी माफ़ी मांगे और डॉक्टर्स से कैमरे के सामने आकर बात करे

देश भर में फ़ैल रही आग
पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी हुआ है उसकी आग देश भर में फैलते हुए नजर आ रही है. 17 जून को सारे देश भर के लगभग 5 लाख डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गये है जिसके चलते बंगाल ही नही राजस्थान, दिल्ली और हरियाणा जैसे राज्यों में भी मरीजो को परेशानियों का सामना करना पडा है. इन सबके बावजूद बंगाल सरकार ने कोई भी ऐसा कडा कदम नही उठाया है जिससे डॉक्टर्स खुदको महफूज समझ सके.