उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में किये राम के दर्शन, फिर मोदी और मंदिर पर कही ये बाते

81

राम मंदिर शुरू से ही शिवसेना का एक बड़ा राजनीतिक न सही लेकिन आस्था का मुद्दा रहा है. बाल ठाकरे से उद्धव ठाकरे तक इस स्टैंड पर टिके हुए है कि अयोध्या में विवादित स्थल पर किसी भी हाल में राम मंदिर बनना ही चाहिये. इसी पर कायम रहते हुए उद्धव ठाकरे अपने परिवार और अपने सारे सांसदों के साथ में अयोध्या में राम लला के दर्शन करने के लिए पहुंचे और वहाँ पर प्रभु श्री राम से अपनी पार्टी के लिए और परिवार के लिए आशीर्वाद भी लिया.

ये उद्धव ठाकरे का दूसरा अयोध्या दौरा है जिसके बाद में वो राम मंदिर पर अपनी प्रतिबद्धता दर्शा रहे है. इसके बाद में उद्धव ठाकरे ने मीडिया से और लोगो से बात भी की और कुछ बाते ऐसी भी कही जो अपने आप में थोड़ी सी अचंभित करने वाली थी. मोदी सरकार के लिए उद्धव ठाकरे का रूख बेहद ही नरम सा था.

उद्धव ठाकरे ने नरेंद्र मोदी और राम मंदिर के बारे में जिक्र करते हुए कहा ‘ नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार को राम मंदिर का निर्माण करने से कोई भी नही रोक सकता है. हमें पूरा विशवास है कि जल्द से जल्द मंदिर का निर्माण हो जाएगा. अब पूरी मजबूती के साथ सरकार आयी है और अगर सरकार क़ानून लाकर के भी मंदिर निर्माण करती है तो हम इस निर्णय में उनके साथ पूरी तरह से खड़े है. ये शिवसेना का नही बल्कि हिन्दुओ की आस्था का प्रश्न है.

संसद का सत्र शुरू होने जा रहा है और उससे पहले हम राम भगवान् का आशीर्वाद लेने आये है. जरुर सकारात्मक परिणाम मिलेगा’ उद्धव ठाकरे के इस दौरे के कई सारे सियासी मायने निकाले जा रहे है जबकि शिवसेना का कहना है कि इससे उन्हें कोई भी राजनीतिक लाभ नही चाहिए वो बस मंदिर बनते हुए देखना चाहते है ताकि हिन्दुओ की इच्छा पूरी हो सके.