शहीद ज्योति प्रकाश की बहन की शादी में पहुँच गये 100 गरुड़ कमांडो, हथेलियाँ बिछाकर दी विदाई

437

जब  भी कोई देश के लिए शहीद होता है तो उसके साथ में पूरी जनता खड़ी हो जाती है लेकिन दुर्भाग्य से ये जोश और उबाल महज कुछ ही वक्त के साथ होता है और अधिकतर लोग उन लोगो की खबर ही नही लेते जिनके घर से लोग शहीद हुए है जिन्होंने अपना बेटा जिन्होंने अपना पति या भाई खोया है लेकिन वायुसेना के गरुड़ कमान्डोज ने ऐसा नही होने दिया. बिहार के काकरपारा के रहने वाले ज्योतिप्रकाश निराला कश्मीर में मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गये. वो बत्तौर गरुड़ कमांडो वायुसेना में काम करते थे.

उनकी शहादत को लेकर हर जगह पर चर्चा हुई और सभी ने उन्हें सलामी भी दी लेकिन उनके परिवार के काम आये तो सिर्फ ज्योति प्रकाश निराला के साथी कमांडोज. दरअसल ज्योति प्रकाश की बहन शशिकला की शादी होने जा रही थी. ऐसे में उसने अपना भाई खो दिया था तो उसे अपने भाई की कमी तो महसूस होनी लाजमी थी मगर गरुड़ कमांडोज ने ऐसा होने नही दिया.

ज्योतिप्रकाश निराला के साथ काम करने वाले 100 के करीब कमांडोज बहन शशिकला की शादी में पहुँच गये और भाई होने का फर्ज निभाया. जब शशिकला विदाई लेकर के ससुराल जा रही थी तो सारे कमांडोज ने अपनी अपनी हथेलियाँ बिछा दी जिसपर चलकर के शशिकला अपने ससुराल की तरफ गयी.

दुल्हन शशिकला और शहीद के पिता का कहना है कि उन्हें लगा था इस शादी में उन्हें बेटे की कमी खलेगी लेकिन गरुड कमांडोज ने ऐसा होने नही दिया. यही नही जी की रिपोर्ट के अनुसार गरुड़ कमांडोज ने शादी के लिए आर्थिक मदद भी जुटाकर के दी है. ऐसे में ज्योतिप्रकाश निराला जहाँ पर भी है वो ये मंजर देखकर के खुश तो खूब हुए होंगे. साथ ही साथ ये चीज एक मिसाल पेश करती है कि अगर कोई देश के लिए शहीद होता है तो पीछे से उसका परिवार अकेला तो बिलकुल भी नही है.