बंगाल के डॉक्टर बोले ‘हमसे बिना शर्त माफ़ी मांगे ममता बनर्जी’, 5 और मांगे भी रखी

113

पश्चिम बंगाल में जिस तरह से शासन प्रशासन की व्यवस्था बिगड़ रही है और सीएम ममता बनर्जी कुछ भी कर पाने में नाकाम नजर आने लगी है उसके बाद में डॉक्टरो का गुस्सा फूटने लगा है. ऐसे में ममता बनर्जी के विरोध में डॉक्टर्स ने न सिर्फ 48 घंटे तक हड़ताल की बल्कि ममता के खिलाफ तख्तियां उठाकर के विरोध प्रदर्शन भी किया. इन सबके बीच ममता बनर्जी की संवेदनहीनता को देखते हुए लगभग 150 से ज्यादा डॉक्टर्स तो अपना इस्तीफ़ा तक दे चुके है जो अपने आप में बंगाल की स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए चिंता का विषय बन चुका है.

क्या है पूरा मामला? ममता बनर्जी की सरकार और प्रशासन में डॉक्टरो पर हमले देखने को मिले है. हाल ही में एक जूनियर डॉक्टर को भी मरीज के परिजनों ने पीट दिया क्योंकि उसकी जान चली गयी. बंगाल में ऐसे केस देखने को मिल रहे है जिसके चलते डॉक्टर काफी डरे हुए है और ऐसे वो बंगाल में बिलकुल भी सुरक्षित महसूस नही कर रहे है और हड़ताल पर बैठे है.

बिना शर्त मागी मांगे ममता डॉक्टरो का कहना है कि वो राज्य की संरक्षक है और अगर वो हमें सुरक्षित करने में राज्य को सुरक्षित करने में ही फेल हो जाती है तो उन्हें हमसे यहाँ आकर बिना शर्त के माफ़ी मांगनी चाहिए. हालांकि ममता के सुर इतने तल्ख़ दिख रहे है मानो उन्हें डॉक्टर्स की हड़ताल या फिर आंसुओ से कोई फर्क ही नही पड़ रहा है

इन हालातो के चलते अब डॉक्टर्स अमित शाह को पत्र लिखकर के अपने लिए सुरक्षा क़ानून लाने की न सिर्फ मांग की है बल्कि ममता बनर्जी से भी 5 मांगे रखी है जिन्हें ममता बनर्जी को सामने आकर के पूरा करना ही होगा.

  1. सीएम ममता को उन लोगो के खिलाफ कार्यवाही करनी होगी जिन्होने डॉक्टर्स पर हमला किया था और उस कार्यवाही का सबूत भी देना पड़ेगा.
  2. ममता बनर्जी खुद आकर के उन डॉक्टर्स से मिले जो घायल हुए है और साथ ही साथ इस पूरी घटना की खुले तौर पर निंदा भी करे.
  3. जो कुछ भी पिछले समय में घटा है और सरकार सुरक्षा देने में फेल हो गयी उसके लिए ममता बनर्जी को बिना शर्त माफी मांगनी पड़ेगी.
  4. पूरे मामले की जांच निष्पक्ष रूप से करवानी होगी.
  5. डॉक्टरो के लिए सुरक्षा की व्यवस्था की जाए. उन्हें शास्त्र धारण किये हुए पुलिसकर्मी भी उपलब्ध करवाए जाए ताकि वो बेख़ौफ़ होकर काम कर सके.