ममता ने की हड़ताल पर बैठे डॉक्टरो से वापिस काम पर आने की अपील, डॉक्टर्स ने दिया जवाब

263

पश्चिम बंगाल में जिस तरह से शासन और प्रशासन बुरी तरह से खराब हो चुका है और डॉक्टर भी हमले का शिकार हो रहे है तो ऐसे में अपनी सुरक्षा की मांग करते हुए सारे के सारे बंगाल के डॉक्टर हड़ताल पर बैठ गये जिसके बाद में ममता बनर्जी ने गुस्से में आकर उन्हें बाहरी और राजनीतिक तक कह डाला. इसके बाद डॉक्टर्स का गुस्सा इतना उबला कि वो ममता के खिलाफ भी देश भर में धरने पर बैठने लगे.

इससे बंगाल से लेकर कलकत्ता तक कई शहरो में स्वास्थ्य सेवाये पूरी तरह से ठप्प हो गयी. ममता बनर्जी को इस कारण से थोड़ी नरमी दिखानी पड़ी और हार मानते हुए ममता ने उन सभी से काम पर दुबारा लौटने की अपील अपनी प्रेस वार्ता में की. यही नही ममता बनर्जी ने ये तक कहा कि हम किसी भी तरह का बल प्रयोग नही करेंगे. इसके आलावा उन्होंने डॉक्टर्स से सचिवालय में जाकर के उनसे बात करने के लिए कहा कि आप जाइए आप वहाँ पर जो भी मसला जैसे भी हल करवाना चाहते है वैसे करवाइए.

अब जब इस पर डॉक्टर्स से सवाल किया गया कि क्या वो इससे संतुष्ट है? तो उनका सीधा सीधा एक जवाब था और वो था ना. डॉक्टर्स का कहना है कि अगर बात करनी है तो ममता बनर्जी खुद हमारे अस्पताल में आये और हमसे बात करे. सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगे जिस तरह से उन्होंने शब्दों का प्रयोग किया और संवेदनहीनता भी दिखाई.

इसके बाद में कही न कही ये तो साफ़ हो ही जाता है कि अब बंगाल में जो डॉक्टर्स का ममता बनर्जी से छत्तीस का आंकड़ा बना है उसकी आग इतनी आसानी से ठंडी नही होने वाली है. बंगाल के डॉक्टर्स को हरियाणा से लेकर जम्मू और दिल्ली तक से समर्थन मिल रहा है और ऐसे में भी ममता बनर्जी डॉक्टर्स से अस्पताल में जाकर उनकी समस्या सुलझाने को तैयार नही हो रही है.