महिलाओं के लिये मेट्रो फ्री करने से केजरीवाल पर गुस्से में मेट्रोमेन श्रीधरन, कही ये बाते

299

अरविन्द केजरीवाल ने हाल ही में एक बहुत ही बड़ी घोषणा की है जिसके तहत दिल्ली में महिलाओं के लिए मेट्रो सेवाओं को फ्री कर दिया जायेगा. वो जब चाहे जहाँ चाहे जैसे चाहे मेट्रो से मुफ्त में यात्रा कर सकेगी. इसकी कुछ लोगो ने तारीफ़ की तो कुछ ने इसे फर्जी बताया मगर इन सबके बीच में एक व्यक्ति है जिसने केजरीवाल के इस फैसले पर न सिर्फ नाखुशी जतायी है बल्कि साथ ही साथ पीएम मोदी को इस सम्बन्ध में पूरा पत्र भी लिखा है.

मेट्रोमेन ने केजरीवाल से नाराज होकर लिखा मोदी को पत्र
श्रीधरन ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर केजरीवाल द्वारा लिए गये महिलाओं के लिए फ्री मेट्रो सेवा प्रदान करने के फैसले पर सवाल उठाये है. उनका कहना है कि जब हमने मेट्रो सेवा शुरू की थी तो उस पर किसी तरह की सब्सिडी न देने का फैसला किया था क्योंकि मेट्रो की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए ये बेहद ही जरुरी है.

आगे अपनी बात में उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी का भी जिक्र किया और कहा जब अटल जी मेट्रो में बैठे तब उन्होंने भी इसका टिकट लिया था और ये दर्शाया कि टिकट लेना जरूरी है आखिर उसीसे इसकी गुणवत्ता मेंटेन होती है. अगर अब सब्सिडी पर ये प्लान जाएगा तो विदेशी एजेंसियों से लिए कर्ज चुकाने मुश्किल होंगे, सेवाये खराब होगी और कर्मचारी भी नाखुश होंगे. इससे कही न कही दूसरे मेट्रो वाले शहरो में भी फ्री सेवाओ की मांग उठेगी जो अच्छा संकेत नही है.

श्रीधरन ने सुझाया दूसरा उपाय
श्रीधरन कहते है कि अगर आपको वाकई में फ्री सेवा देनी ही है तो लाभार्थियों के खाते में सीधे इसका पैसा पहुंचा दीजिये लेकिन फ्री आना जाना अपने आप में मेट्रो के सिस्टम को ही बर्बाद कर देगा. कही न कही श्रीधरन ने मेट्रो की गुणवत्ता गिर जाने का मुद्दा उठाया है.

कौन है ई श्रीधरन?
ई श्रीधरन मेट्रोमेन के नाम से विख्यात है जिन्हें दिल्ली में मेट्रो लाये जाने का श्रेय भी दिया जाता है. सन 1932 में केरल में जन्मे श्रीधरन पद्मविभूषण से भी सम्मानित किये जा चुके है और आज भी उनके मार्गदर्शन में काफी मेट्रो प्रोजेक्ट्स आगे बढ़ते चले जा रहे है.