इजरायल को थी भारत की मदद की जरूत, भारत ने तुरंत आगे आकर निभायी दोस्ती

527

इजरायल और हिन्दुस्तान की दोस्ती पिछले पांच सालो में काफी ज्यादा गहरी हुई है और ये ही वो चीज है जो दोनों ही देशो के बीच का फासला इंटरनेशनल फोरम्स पर भी कम कर रही है और ऐसा ही एक केस हाल ही में देखने में आया जब इजरायल को विश्व स्तरीय अलग अलग देशो से समर्थन हासिल करने की जरूरत थी तो भारत ने इतिहास में पहली बार खुलकर के इजरायल का इतना ज्यादा समर्थन किया है और इससे दोनों देशो के बीच में रिश्ते और भी ज्यादा मजबूत हो जाने के आसार है.

फिलीस्तीनी संगठन ‘शहीद’ को नही बनने दिया पर्यवेक्षक
इजरायल और फिलीसतीन का मसला पिछले कई दशको से संयुक्त राष्ट्र में अटका पड़ा है और सबके लिए परेशानी का सबब भी है. ऐसे में हाल ही में एक प्रस्ताव आया था जिसमे फिलीस्तीनी संगठन शहीद को पर्यवेक्षक का दर्जा दिलाना था. संयुक्त राष्ट्र में वोटिंग हुई और इजरायल जीत गया. इजरायल के लिए भारत ने भी वोट किया और ये इतिहास में पहली बार हुआ है जब ऐसे विवादों पर भारत ने खुलकर इजरायल को सपोर्ट किया हो.

राजदूत ने दिया धन्यवाद
इजरायल के राजदूत ने भी भारत द्वारा किये गये इजरायल के सपोर्ट पर भारत का खुलकर के आभार जताया है और सोशल मीडिया पर भी हिन्दुस्तानी इजराइली भाई भाई तरह की तमाम बाते देखने को मिली जिससे मालूम चलता है कि दोनों ही देशो की सरकारों ही नही बल्कि दोनों ही देशो के नागरिको के बीच भी काफी नजदीकियां आयी है और ये अच्छी बात भी है.

इजरायल भारत के लिए सामरिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इजरायल द्वारा उत्पादित डिफेन्स टेक्नोलॉजी से भारत को दुश्मनों के खिलाफ खड़ा होने में अच्छी खासी मदद मिलती है. दोनों देशो के बीच कई सारे डिफेन्स करार भी है और पाकिस्तान के साथ इजरायल भी सम्बन्ध बदतर है तो भारत के लिए दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है वाली कहावत भी लागू होती है.