नीतीश कुमार का बड़ा फैसला: माँ बाप की सेवा ही करोगे तो जाओगे जेल

310

बिहार हमेशा से ही अपने अनोखे किस्म के फैसलो को लेकर के विख्यात रहा हैअक्सर ही बिहार सरकार ऐसे फैसले लेती रही है जैसे शराबबंदी और दहेज़बंदी. इन सबके बीच में एक और बोल्ड फैसला लेते हुए नीतीश सरकार की केबिनेट ने इस फैसले को मंजूरी दे दी कि अगर कोई भी बच्चा अपने माता पिता की सेवा ही करता है तो उसे जेल की हवा भी कहानी पड़ सकती है. केबिनेट में कुल 17 के करीब प्रस्ताव थे जिनमे से इसने तो सबको चौंका ही दिया जिसने लोगो के बीच में सामाजिक समरसता लाने के लिए इतना बड़ा कदम लिया है.

लागू हो पाना मुश्किल
बिहार में पहले भी शराबबंदी जैसे फैसले हुए है लेकिन उन्हें लागू कर पाना ही काफी हद तक असम्भव साबित हुआ और जब बात घर के अन्दर हो रहे किसी अपराध की आती है तो उसे सरकार देख नही पाती है और ऐसे में जब तक फरियादी खुद पुलिस स्टेशन तक नही पहुंचे तब तक कोई मतलब ही नही बनता.

और भी फैसले लिए गये
नीतिश केबिनेट ने माँ बाप की सेवा की अनिवार्यता के अलावा भी कई वित्तीय और सामजिक फैसले लिये. जिनमे से एक पुलवामा के शहीदो के परिवारजनों को सरकारी नौकरी देने का वादा भी शामिल है. अगर ऐसा हो जाता है तो इससे कही न कही उन लोगो को फायदा होगा जिनके घर से पुलवामा में जवान शहीद हुए है और उन्हें बिहार सरकार में नौकरी मिलेगी. जानकारी के लिए बता दे कि ये फायदा सिर्फ बिहार राज्य के नागरिको के लिए ही है.

इन फैसलों से नीतीश कुमार ने जनता का मन जरुर खुश किया है. राजनीतिक पंडित बताते है कि ऐसे फैसले लेने के पीछे का मकसद नीतीश का अपनी एक साफ़ छवि बरकरार रखना और राजद को उभरने से रोकना ही है. कही न कही वो इसमें बीजेपी की मदद से काफी हद तक कामयाब भी तो हुए है.