मंत्री बनाने के लिये अमित शाह लगाते रहे फोन, प्रताप सारंगी ने उठाया ही नही

670

अक्सर कई बार ऐसे दिलचस्प लोग और किस्से होते है जो दिल को छू जाते है और ये आम लोगो के साथ ही नही बल्कि नेताओं मंत्रियो के साथ भी होते है. फ़िलहाल जो मामला है वो 30 मई की दोपहर का है जब पूरा राष्ट्रपति भवन सजाया जा रहा था. शाम को 7 बजे नरेंद्र मोदी पीएम पद के लिए अपने कैबिनेट के मंत्रियो के साथ शपथ लेने वाले थे. लगभग 24 घंटे पहले से ही उन लोगो को फोन आने लगे जिन लोगो का नाम मंत्रीपद के लिए तय किया गया. सारे 303 सांसद अपने मोबाइल फोन पर नजरे गढ़ाये बैठे थे कि कब उन्हें फ़ोन आये?

ऐसे वक्त में भी प्रताप सारंगी तो अपनी ही मस्ती में मस्त थे. एक निजी मीडिया ग्रुप को दिये अपने इंटरव्यू में प्रताप सारंगी ने बताया मुझे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कई बार कॉल किया लेकिन मेने उठाया नही क्योंकि मेने फोन साइलेंट करके साइड में रख दिया था और बीजेपी कार्यालय में काम में लग गया था.

जब काफी बार के बाद भी मेने फोन नही उठाया तो मुझसे ऊपर के कार्यालय के द्वारा संपर्क साधा गया और उन्होंने मुझसे पूछा ‘राष्ट्रीय अध्यक्ष जी तुमसे बात करना चाह रहे है, फोन क्यों नही उठा रहे हो?’ इसी बात पर अमित शाह को तुरंत प्रताप सारंगी ने फोन लगाया और बताया कि उनका फोन साइलेंट पर था. बाद में अमित शाह ने कहा ‘आज आपको मंत्री पद की शपथ लेनी है’ सारंगी चौंक गये और उल्टा सवाल पूछ लिया ‘ मुझे क्यों लेनी है?’

वो चौंके इसलिए क्योंकि उन्हें बिल्कुल भी विश्वास नही था कि उन्हें भी मंत्री बनने का मौक़ा दिया जा सकता है लेकिन मोदी की केबिनेट में सब मुमकिन है. बाद में अमित शाह ने सारंगी से कहा ‘ आप 5 बजे धर्मेन्द्र प्रधान जी के घर चले जाना. वहां से दोनों साथ राष्ट्रपति भवन आ जाना.’

इसके बाद प्रताप सारंगी धर्मेन्द्र प्रधान के घर पहुंचे. धर्मेन्द्र प्रधान और प्रताप सारंगी दोनों ही मिलकर इसके बाद राष्ट्रपति भवन पहुंचे जहाँ पर प्रताप सारंगी ने मोदी सरकार के मंत्री के तौर पर शपथ ली. वो सबसे कम आय वाले सांसद है और उन्हें उडीसा का मोदी भी कहा जाता है.