अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली को बर्बाद करने के लिये बड़ा कदम उठा दिया है

180

दिल्ली में जल्द ही चुनाव आने वाले है और इसे लेकर के अरविन्द केजरीवाल काफी ज्यादा चिंता में है और संवेदनशील हो चुके है क्योंकि केजरीवाल जो दिल्ली में पिछले लोकसभा चुनावों में अपना एक छत्र राज कायम कर चुके थे वही केजरीवाल इन लोकसभा चुनावों में दिल्ली की सातो सीट में से एक भी सीट पर कब्जा नही कर पाए. अब ऐसे में जब अरविन्द को ऐसा लग रहा है कि पाँव तले से जमीन खिसक रही है तो एक ऐसा फैसला लेने की तैयारी की जा रही है जिसकी उम्मीद भी नही की जा सकती है.

महिलाओं के लिये फ्री कर दिया जायेगा पब्लिक ट्रांसपोर्ट
दिल्ली सरकार के ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर ने डीएमआरसी और अन्य डिपार्टमेंट्स के साथ मिलकर के एक मीटिंग की जिसमे मालूम करने की कोशिश की गयी है कि अगर दिल्ली सरकार सभी महिलाओं को मुफ्त में पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसे मेट्रो और बस सर्विस दे तो इसमें कुल कितना खर्च आएगा? एक अनुमान के तौर पर सरकार पर इसका लगभग 1500 करोड़ रूपये हर वर्ष का बोझ अतिरिक्त आयेगा.

बेहद भयावह है इसके दुष्परिणाम
कई देशो की संसद और संयुक्त राष्ट्र ने भी माना है कि भीख या फिर डोनेशन या सब्सिडी जैसी चीजे किसी भी देश को गरीबी से निकालने में मदद नही करती है बल्कि उन्हें आप पर निर्भर बना देती है और ये उनकी वर्क एफिसिएंसी को खत्म कर देता है, इसलिए यूनेस्को जैसे संस्थान भी मुफ्त खाना बाँटने की बजाय शिक्षा और स्वास्थ्य पर खर्च करते है. अगर ‘आप’ सरकारी पैसे से महिलाओं को मुफ्त में दिल्ली में आवागमन देती है तो ये बिजली और पानी के बाद तीसरी चीज होगी जिसे लेकर वो सरकार पर निर्भर हो जायेंगे.

सरकार पहले से ही बिजली और पानी पर भी दिल्ली के लोगो को सब्सिडी देती है और बहुत सा पैसा महज टेम्परेरी खानापूर्ती के लिए व्यर्थ हो रहा है  और अब ये कदम ये महिलाओं की कमाने की प्रवृति को कम करेगा. महिलाओ की संघर्ष करने की आदत को खत्म करेगा और उन्हें फिर से निर्भर बना देगा. इसके अलावा मुफ्त यात्रा होने पर महिलाये भारी संख्या में मेट्रो में सफ़र करेगी जो रूट्स पर बोझ बढ़ा देगा. इससे मेट्रो की गुणवत्ता में भी बेहद भारी गिरावट देखने में आयेगी.

इस फैसले पर काम करने के पीछे दिल्ली में आने वाले समय में हो रहे विधानसभा चुनाव है जिसमे अब आप का फोकस महिला वोटो पर चला गया है जिसके चलते ये फैसला लिया जा रहा है. ऐसे में क्या होता है और क्या नही? ये तो आने वाले समय में ही पता चल पायेगा.