शपथ से पहले मोदी से नाराज हुई जेडीयू, नीतीश कुमार का बड़ा बयान

598

देश भर में जश्न का माहौल है हर तरफ बीजेपी की चर्चा हो रही है और इसके पीछे की वजह है 30 मई की शाम को देश की नयी सरकार यानि मोदी सरकार शपथ लेने जा रही है और जब सब लोग जश्न में डूबे है तो एक जगह मायूसी छा गयी और सन्नाटा पसर चुका है. दरअसल बीजेपी ने तय किया कि एनडीए के दलों को भी केबिनेट में जगह दी जायेगी और इसके लिये नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू को दो सीटे चाहिए थी मगर बीजेपी की तरफ से आखिरी मौके पर उन्हें जानकारी दी गयी कि जेडीयू को सिर्फ एक सीट ही दी जा सकती है.

ऐसे में जेडीयू में हड़बड़ी मच गयी क्योंकि वो दो सीट्स को लेकर के तसल्ली कर रहे थे. ऐसे में पार्टी की तरफ से शपथ से ठीक पहले मीटिंग बुलाई गयी. सूत्रों के मुताबिक़ इस मीटिंग में जेडीयू के कुछ सांसद आपस में मंत्री पद पाने को लेकर भिड गये और ऐसे में नीतीश कुमार को भी काफी मायूसी हुई. ऐसे में अब पार्टी को शांत रखना भी जरूरी था तो ऐसे में उन्होंने फैसला किया कि वो पूरी सरकार का ही त्याग कर देंगे.

नीतीश कुमार की तरफ से दिए गये बयान में कहा गया ‘ हम केबिनेट का हिस्सा नही बनेंगे, हालाँकि एनडीए का हिस्सा हम अब भी है और बने रहेंगे.’ नीतीश कुमार की नाराजगी मोदी सरकार से साफ़ साफ़ तौर पर दिखाई दे रही है क्योंकि वो बिहार से 16 सीट्स जीतकर के लाये है और उन्होंने 2 मंत्री पदों की अपेक्षा की थी जो उन्हें सरकार से नही मिली.

अब ऐसे में आगे क्या होता है? ये तो देखने वाली बात है लेकिन शिष्टाचार रखते हुए नीतीश कुमार पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में जरुर शामिल हुए है और इससे साफ़ होता है कि अब चाहे तकरार हुई है लेकिन आगे अमित शाह और नीतीश बैठकर के शायद इस मसले को भी सुलझा ही लेंगे. आखिर एनडीए की पार्टियों की यही खूबी है.