नयी सरकार बनते ही मोहन भागवत का मोदी को इशारा, राम मंदिर पर बड़ा बयान

171

भारतीय जनता पार्टी ने आखिरकार अपनी सबसे बम्पर जीत हासिल की और अपनें नारे के मुताबिक़ वो 2019 के लोकसभा चुनावों में 300 पार चले भी गये. अब जीत जितनी बड़ी होती है जिम्मेदारियां तो उससे भी कई ज्यादा बड़ी होती है इसमें कोई शक नही है और बीजेपी पर राम लला का मन्दिर बनाने की भी एक बड़ी जिम्मेदारी है जिसके बारे में संघ प्रमुख भागवत ने पीएम मोदी को शपथ लेने से पहले ही चेता दिया है.

मोहन भागवत राजस्थान के उदयपुर में एक सभा को संबोधित करने के लिए पहुंचे थे जहाँ पर उन्होंने लगभग 15 मिनट तक भाषण दिया जिसमे उन्होंने राम के नाम का भी जिक्र किया और कहा ‘राम का काम करना है, राम का काम होकर रहेगा.’ संघ प्रमुख की इन बातो के बाद में पूरा मैदान जय श्री राम के नारों से गूंजने लग गया.

ये मोहन भागवत ने पहली बार नही किया है, वो समय समय पर इस तरह से सरकार पर राम मंदिर जैसे मुद्दों पर दबाव बनाते रहते है. अब इससे तो कोई भी अनुमान लगा लेगा कि यहाँ पर अयोध्या के राम मंदिर की बात हो रही है. आखिर नरेंद्र मोदी पीएम बने है तो उन्हें उनकी जिम्मेदारी का एहसास करवा देना भी जरूरी है ताकि वो उस ओर भी ध्यान लगाये और सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से राम मंदिर के निर्माण के लिए जो कुछ भी सरकार और पीएम की तरफ से संभव हो सकता हो वो सब करे.

अब बीजेपी सरकार का इस बार इस पर क्या रूख रहता है? ये तो आने वाला वक्त ही बता पायेगा. हालांकि भाजपा के अस्तिव में आने की मुख्य वजह ही अयोध्या में मंदिर निर्माण और धारा 370 को हटाना था मगर दोनों सदनों में पूर्ण रूप से बहुमत नही जुटा पाने के कारण और सुप्रीम कोर्ट में मामला अटका होनें के कारण अभी तक ये कार्य पूर्ण नही हो पाये है.