बाबा रामदेव ने कहा ‘जनसँख्या नियंत्रण क़ानून लाये सरकार’, तिलमिलाकर औवेशी ने कही ये बात

622

देश में नयी सरकार बन चुकी है और सरकार बनी है तो उससे लोगो की अपनी अपनी उम्मीदे भी है और इसमें ज्यादा हक़ तो उन लोगो का ही बनता है जो कही न कही बीजेपी को वोट देने के कारक रहे. ऐसे में सरकार ने शपथ भी नही ली है कि बाबा रामदेव ने पहले ही अपनी मांग का पिटारा खोल दिया और कहा ‘अब समय आ गया है जब भारत में जनसंख्या नियंत्रण क़ानून लाया जाए. ये देश के लिए बेहद जरूरी है और अगर किसी भी सूरत में देश की जनसँख्या 150 करोड़ से ज्यादा हो जाती है तो फिर हमारे पास में उतने संसाधन भी नही है, ऐसी स्थिति में भारत और भारत के लोगो के लिए सरवाइव करना मुश्किल हो जाएगा.

सरकार को दो बच्चो की नीति लागू करनी चाहिए और तीसरे बच्चे को वोट देने का अधिकार भी नही देना चाहिए.’ बाबा रामदेव द्वारा दिए गये इस बयान की सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हुई और कई लोगो ने जनसंख्या नियंत्रित करने के लिए कुछ न कुछ कदम उठाने की वकालत तो की है लेकिन लगता है हैदाराबाद के सांसद औवेशी को ये बात रास नही आयी है.

औवेशी ने बाबा रामदेव को ताना मारते हुए कहा ‘इस देश में कुछ भी असवैधानिक या गलत कहने पर कोई क़ानून नही है तो इस वजह से लोग कुछ भी कहते है मगर अब बाबा रामदेव ये कह रहे है कि नरेंद्र मोदी को वोट देने का अधिकार नही होना चाहिए क्योंकि वो तीसरी संतान है.’

अब दोनों के ही बयान काफी ज्यादा वायरल हुए है हालांकि समर्थन बाबा रामदेव को ही मिल रहा है क्योंकि देश बहुत ही विकट परिस्थिति से गुजर रहा है और ऐसे में अगर जनसंख्या को काबू नही किया जाता है तो भारत के पास में भविष्य में इतने संसाधन नही होंगे कि वो आने वाले बच्चो को पाल पोस सके और उन्हें एक बेहतर जीवन दे सके. चीन ने भी इस समस्या के से निपटने के लिये दो बच्चो की नीति सख्ती के साथ अपनाई थी जिसकी बदौलत वो एक स्थिर देश बन गया है लेकिन क्या भारत में ऐसा कुछ भी कर पाना संभव होगा?