बीजेपी की जीत के बाद अमेठी में तनाव, स्मृति इरानी के खास आदमी को गोली मारी गयी

258

2019 के लोकसभा चुनाव अपने आप में बहुत ही ख़ास रहे क्योंकि यहाँ पर पहली बार बीजेपी ने न सिर्फ बम्पर बहुमत हासिल किया है बल्कि साथ ही साथ कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी को उनकी ही लोकसभा सीट से हरा दिया गया है और हराने वाली है स्मृति इरानी लेकिन अब लगता है इसकी कोई कीमत तो थी जिसे अमेठी के लोग अब चुका रहे है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ अमेठी में चुनाव समाप्त होने के बाद गुंडे बदमाशो के द्वारा घर में घुसकर स्मृति ईरानी के करीबी कहे जाने वाले पूर्व ग्राम प्रधान सुरेन्द्र सिंह को गोली मार दी.

सुरेन्द्र सिंह वो कार्यकर्ता थे जिन्होंने रूरल अमेठी में स्मृति इरानी को जड़े जमाने में मदद की थी और वो लगातार उनके लिए प्रचार प्रसार का कार्य कर रहे थे जिसके चलते वो विपक्षियो की आँखों की किरकिरी भी बन चुके थे. स्मृति चुनाव जीती और जीत का अमेठी में जोर शोर के साथ जश्न भी मनाया गया जिसमे सुरेन्द्र सिंह भी शामिल थे.

वो जश्न मनाकर के घर लौटे तभी अचानक कुछ गुंडे बदमाश घर में घुस आये और सुरेन्द्र सिंह पर ताबड़तोड़ फायरिंग करके वहाँ से फरार हो गये. सुरेन्द्र सिंह को तुरंत ट्रोमा सेंटर के लिए ले जाया जाने लगा लेकिन तभी रास्ते में जाते हुए ही उन्होंने अपना दम तोड़ दिया. इस घटना के बाद से पूरी अमेठी से लेकर सोशल मीडिया पर भी तनाव पसरा हुआ है. इस पूरी निर्मम घटना के पीछे किसका हाथ है और किसके इशारे पर सुरेन्द्र सिंह की जान ले ली गयी?

ये अभी भी एक सवाल ही बना हुआ है लेकिन आशंका जताई जा रही है कि इसके पीछे राजनीतिक द्वेष भी हो सकता है. महज कुछ घंटे पहले ही सुरेन्द्र सिंह पार्टी के लोगो के साथ मिलकर जश्न मना रहे थे और चंद पलो में वो सब घर में चीख पुकार में बदल गया, हर तरफ चीत्कारे गूँज रही है जो पूछ रही है आखिर उसका क्या कसूर था?