कांग्रेस कमिटी की बैठक में राहुल देना चाहते थे ‘अध्यक्ष पद’ से इस्तीफा लेकिन..

136

राहुल गांधी इन दिनों अपनी राजनीति के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे है जहाँ पर वो हर जगह से फेल हो चुके है. उनकी अध्यक्षता में न सिर्फ कांग्रेस बुरी तरह से दो बार लोकसभा का चुनाव हारी है बल्कि इस बार तो वो अपनी परम्परागत लोकसभा सीट तक न बचा सके. अब इस हार के बाद कांग्रेस की वर्किंग कमिटी की बैठक बुलाई गयी. इससे पहले ही कयास लगने शुरू हो गये थे कि राहुल गांधी अब कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देंगे. जब बैठक बुलाई गयी तब भी ऐसा ही हुआ.

राहुल गांधी ने बैठक में ड्रामा किया और अपना इस्तीफा पेश किया लेकिन कमिटी ने उनका इस्तीफा ही नामंजूर कर दिया.  राहुल गांधी ने सभा के अंत में खड़े होकर के भाषण दिया और ये भी माना कि वो जिम्मेदारी निभा पाने में नाकाम हुए जिसके चलते उनकी और उनकी पार्टी की हार हो गयी.

राहुल नें जैसे ही इस्तीफ़ा देना चाहा तो सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह जैसे बड़े दिग्गज नेताओं ने उन्हे ऐसा करने से रोक लिया. कई नेताओं ने इससे गहरी नाराजगी व्यक्त की और ऐसा कुछ भी करने पर खुद ही पार्टी छोड़ देने की बात कही है. वही महाराष्ट्र के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने भी अपना इस्तीफ़ा पेश करते हुए कहा कि राहुल पार्टी अध्यक्ष का पद न छोड़े, ये हमारी गलती है हमें बल्कि सारे प्रदेश अध्यक्षों को इस्तीफा देना चाहिए.

पार्टी में एक व्यापक बदलाव की जरूरत है. हालांकि राहुल पर अभी भी किसी भी चीज का असर होते हुए दिखाई नही दे रहा है और ऐसी स्थिति में एक बात तो साफ़ हो गयी है कि अब राहुल को दुबारा अध्यक्ष पद की कमान पर बिठाए भी रखा जाता है तो बिना संकल्प और एम्बिशन के वो कुछ भी कर पाने में नाकाम रहेंगे.