अमित शाह पर बंगाल में हमला, CRPF के जवानो ने बचाया

197

पश्चिम बंगाल इन दिनों में देश में राजनीति का केंद्र बन चुका है जहाँ पर ममता बनर्जी की टीएमसी और मोदी की बीजेपी के बीच लगातार तकरार चल रही है. बीजेपी नेताओं पर बंगाल में अक्सर ही हमले होते रहे है लेकिन इस बार शिकार खुद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कद्दावर नेता अमित शाह हो गये. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अमित शाह पश्चिम बंगाल में रैली करने के लिए पहुँचे थे जहाँ पर उनका रोड शो था और रोड शो में हजारो की संख्या में भीड़ उमड़ रही थी. बीजेपी के दावे और प्रत्यक्षदर्शियो के अनुसार यहाँ पर भीड़ में टीएमसी के कार्यकर्ता घुस आये जिन्होंने पोस्टर फाड़ने शुरू कर दिए.

पिटाई की और बीजेपी बंगाल के अध्यक्ष के दावे के अनुसार केरोसीन से भी आगजनी की गयी. अमित शाह ने कहा कि मुझ पर भी वो लोग निशाना लगाना चाहते थे मगर मुझे सीआरपीएफ के जवानो ने बचा लिया. अगर वो न होते तो मेरा बचकर के निकलना भी मुश्किल ही था. दूसरी तरफ टीएमसी अलग ही राग अलाप रही है और उनका कहना है कि बीजेपी समर्थको ने इसकी शुरुआत की थी.

उन्होंने एक कॉलेज में घुसकर शिक्षाशास्त्री ईश्वरचन्द्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी थी और इस पर कुछ विडियो भी जारी किये गये जिसे बीजेपी फर्जी बता रही है. दोनों ही पार्टियों में ज़ुबानी जंग चल रही है और अमित शाह का कहना है कि उनकी पार्टी की तरफ से कोई भी हिंसा नही की गयी है.

भाजपा के दावे के अनुसार बीजेपी के काफिले पर गुजरते वक्त पास के ही काफिले से पथराव किया गया जिसके जवाब में दोनों ही गुट आपस में भिड गये. हालांकि पुलिस से किसी भी तरह की अपेक्षा नही की जा रही है क्योंकि पुलिस बंगाल में सरकार के कहे अनुसार ही चलती है और काम करती है जिसके चलते बंगाल का प्रशासन देश में सबसे अधिक खराब स्थिति में जा पहुंचा है जहाँ पर आम आदमी सुरक्षित महसूस नही कर सकता.