ममता बनर्जी की फनी फोटो पोस्ट करने पर बंगाल में युवती को जेल भेजा

325

अक्सर नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी को असहिष्णु करार देकर के उन्हें ट्रोल किया जाता है लेकिन असल में असहिष्णु कौन है? इस बात का अंदाजा तो अभी हाल ही में हुई एक घटना को देखकर के ही मालूम चल जाता है. दरअसल बंगाल की एक युवती को अपने ही देश में अपने नेता को छोटा मोटा ट्रोल करने के लिए जेल की हवा कहानी पड़ रही है.

प्रियंका शर्मा भारतीय जनता युवा मोर्चा की सदस्य है और सोशल मीडिया पर प्रियंका शर्मा ने एक तस्वीर पोस्ट की थी जिसमे उन्होंने ममता बनर्जी का मजाक बनाया था. तस्वीर में कुछ भी अपमानजनक या फिर अश्लील टिप्पणी नही थी. महज प्रियंका चोपड़ा के मेट गला वाली तस्वीर में प्रियंका के चेहरे की जगह ममता बनर्जी के चेहरे का इस्तेमाल कर लिया गया.

ये तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी लम्बे समय से वायरल थी मगर जैसे ही बंगाल की रहने वाली एक युवती और भाजयुमो कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा ने ममता बनर्जी की ये तस्वीर शेयर की तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया. शिकायतकर्ता ने पुलिस में इसे अपमानजनक होने के साथ ही साथ में हिंसात्मक भी बताया है. पुलिस ने भी ममता सरकार की पुलिस होने की वजह से तुरंत कार्यवाही की और प्रियंका शर्मा को सोशल मीडिया पर एक छोटा सा मजाक करने के लिए जेल में ठूस दिया गया. ममता सरकार और पुलिस की इस फ्रीडम ऑफ स्पीच की आवाज को दबाने के विरोध में ट्विटर पर पूरे दिन #ISupportPriyankaSharma ट्रेंड करता रहा.

यूजर्स ने ममता बनर्जी और उनकी पुलिस पर तानाशाह रवैया अख्तियार करने और लोगो की आवाज दबाने के इल्जाम लगाये. हालांकि अपने में ही आत्ममुग्ध टीएमसी को इनमे से किसी की भी आवाज सुनाई नही दे रही है. ऐसा पहली बार नही हुआ है जब ममता बनर्जी के राज में ऐसा कुछ हुआ हो. इससे पहले भी वो मशहूर प्रोफ़ेसर अम्बिकेश महापात्रा को एक छोटा सा कार्टून फॉरवर्ड करने के लिए जेल में सडवा चुकी है. हालांकि बादमे कोर्ट ने इस गिरफ्तारी को गलत बताते हुए उन्हें 75 हजार रूपये का मुआवजा देने का ऐलान किया था.मगर तब तक जो एक आम नागरिक पर एक जुल्मी सरकार की तरफ से बीत चुकी होती है उसकी भरपाई क्या चंद रूपयों से की जा सकती है?