देश भर में सिखों का कांग्रेस के विरोध में प्रदर्शन शुरु हुआ

90

कांग्रेस पिछले लम्बे समय से सिखों के विरोध को झेल रही है और ये विरोध वाजिब भी है क्योंकि जो त्रासदी और जो पीड़ा सिखों ने सन 84 में झेली है वो अपने आप में बहुत ही दर्द भरी है. दरअसल सिखों के गुस्से को भड़काने का काम किया है सैम पित्रोदा ने. सैम पित्रोदा इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष है और अक्सर ही अपने अजीबो गरीब और विवादित बयानों को लेकर के चर्चा में रहते हैं. हाल ही में सैम पित्रोदा ने बीजेपी को टारगेट करते हुए कह दिया ‘1984 में जो हुआ सो हुआ, आपने 5 सालो में क्या किया?’

सैम पित्रोदा के इस बयान के बाद से ही कांग्रेस सिखो के निशाने पर तो है ही साथ ही साथ में बीजेपी भी कांग्रेस को राजनीतिक तौर पर घेरने में लग गयी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सैम पित्रोदा के बयान का जवाब देते हुए कहा है कान्ग्रेस का यही स्वभाव है, वो कर देते है और फिर कह देते है जो हुआ सो हुआ.

सिख समुदाय इस बयान के बाद में बहुत ही ज्यादा गुस्से में है जिसके चलते दिल्ली और पंजाब समेत देश के कई राज्यों में प्रदर्शन किये जा रहे है. राहुल गाँधी के घर के बाहर भी प्रदर्शन करके उनसे माफी की माँग की जा रही है. सैम पित्रोदा से भी माफ़ी मंगवाये जाने की माँग की जा रही है लेकिन कांग्रेस प्रवक्ता इसे भी किसी न किसी तरह से डिफेंड करने की भरपूर कोशिश कर रहे है जो काफी बुरा है.

यहाँ तक कि कांग्रेस के नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सैम पित्रोदा के बयान को गलत बताते हुए उनसे पल्ला झाड लिया है. उन्होंने सिख समुदाय को पार्टी के बजाय पहले रखा और शायद इसी वजह से वो राज्य के मुख्यमंत्री है. इससे पहले भी 84 के आरोपी कमलनाथ को एक राज्य की कमान देकर के कांग्रेस सिख समुदाय के गुस्से का शिकार हो चुकी है और अब एक बार फिर से सैम पित्रोदा ने जो कहा है वो घातक ही साबित होगा.