तेज बहादुर का नामांकन वाराणसी से रद्द तो अखिलेश यादव ने दिया बड़ा बयान

239

तेज बहादुर यादव जिसे अनुशासनहीनता के आरोप में दोषी करार देने के बाद में बीएसएफ से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया वो तेज बहादुर अब राजनीति में आने की जगत में और तेज बहादुर को इसका मौका मिल भी गया. उसने वाराणसी से चुनाव लड़ने का फैसला किया और उसे महागठबंधन की तरफ से टिकट भी दिया गया यानि वो अब सपा और बसपा के समर्थन से मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए मैदान में है मगर क्योंकि चुनाव आयोग ने उनके नामांकन में कई खामियां पायी है जिसके चलते उनका नामांकन रद्द कर दिया गया है. तेज बहादुर का नामांकन रद्द होने के बाद उन्होंने खुद भी इसके लिए नरेंद्र मोदी को इसका जिम्मेदार ठहराया है.

यही नही इसके बाद अखिलेश यादव की तरफ से भी प्रतिक्रिया आयी है. अखिलेश यादव ने एएनआई के रिपोर्टर से बात करते हुए कहा कि तेज बहादुर का सामना करने से बीजेपी और मोदी डर रहे है इसलिए उन्होंने चुनाव आयोग का इस्तेमाल किया है. बीजेपी के लोग जो देशभक्ति की बाते करते है भारत माता की जय बोलते है वो एक जवांन को चुनाव क्यों नही लड़ने दे रहे है?

अखिलेश यादव ने तेज बहादुर के दाल की शिकायत सोशल मीडिया पर करने को भी जायज ठहराया और कहा उसे अच्छा खाना न मिलने पर शिकायत करने का अधिकार है. आपके घर में भी कई बार खाना सही न बने तो आप शिकायत करते है और अब उसके साथ में जो भी हो रहा है चुनाव आयोग के जरिये वो ठीक नही है ऐसा अखिलेश यादव का कहना है.

अब ये तो चुनाव आयोग का फैसला है जिस पर सवाल उठाना न उठाना तो राजनेताओं के अधिकार में आता है लेकिन तेज बहादुर का कहना है कि वो सुप्रीम कोर्ट में जायेगे और चुनाव लादकर के रहेंगे. बीजेपी समर्थक तेज बहादुर इन दिनो में वाराणसी में भी अपने साथियों के साथ प्रचार के कार्य में लगे हुए है मगर फिर भी मोदी के आस पास भी उनका वोट ठहरते हुए नजर नही आ रहा है.