इन चुनावो के बाद खत्म हो जायेगी टीएमसी? पीएम मोदी का बड़ा दाँव

203

तृणमूल कांग्रेस बंगाल की सबसे बड़ी पार्टी उभरी है और लेफ्ट को इसी पार्टी ने बिलकुल पीछे की तरफ धकेल दिया जिसके बाद से पूरे बंगाल पर एक लम्बे समय से ममता बनर्जी का एक छत्र शासन रहा है मगर बीजेपी से जब से ममता बनर्जी ने सीधे टक्कर लेने की शुरुआत की है तब से ही वो अमित शाह और नरेंद्र मोदी की आँखों में खटकने लगी थी. ममता बनर्जी ने केंद्र की योजनाओं को लगातार बंगाल में लागू होने से रोकने की कोशिश की, भाजपा नेताओ और कार्यकर्ताओं पर हमलो और उनकी जान लेने की खबरे भी बंगाल में सर चढ़कर के बोली, इतना ही नही बीजेपी के बड़े बड़े नेताओं को बंगाल में हेलीकॉप्टर लैंडिंग की अनुमति नही मिली जिसके चलते बीजेपी सीधे सीधे टीएमसी के खिलाफ जा खड़ी हुई है.

ये मामला तब बढ़ गया जब मोदी और ममता के बीच ज़ुबानी जंग पर्सनल हो गयी. पीएम मोदी ने अक्षय कुमार को दिए अपने इंटरव्यू में कहा था कि ममता दीदी मुझे रसगुल्ला भेजती है. ये शायद उनकी रिश्तो में नरमी लाने की कोशिश थी मगर ममता बनर्जी ने बेहद ही फूहड़ भाषा में पीएम को जवाब देते हुए कहा ‘हम मोदी को कंकड़ और रेत पत्थर से बना हुआ रसगुल्ला भेजेंगे जिसे खाकर के मोदी का दांत टूट जाएगा’.

इधर ममता बनर्जी का ये बेतुका बयान आया और उधर पीएम मोदी ने एक रैली में जवाब देते हुए कहा ‘दीदी मुझे बंगाल की मिट्टी का रसगुल्ला भेजना चाहती है मुझे इसका इन्तजार रहेगा लेकिन दीदी आपको बता दूं आपके 40 विधायक मेरे संपर्क में है.’ पीएम मोदी ने ये बात खुली सभा में कही है और अगर ये बात कही भी सच है तो टीएमसी के जनाधार वाले नेता खो जायेंगे.

ये ममता बनर्जी के लिए बहुत ही बड़ा झटका है और ऐसा होने पर टीएमसी पर खत्म हो जाने का खतरा ही आ बैठेगा. मायावती ने इसके विरोध में पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए उनपर विधायको की खरीद फरोख्त का इल्जाम लगाया है.