चुनाव अधिकारी ने खोली ममता बनर्जी और बंगाल में चल रहे खेल की पोल

1963

पूरे देश में चुनाव का माहौल है और ऐसे माहौल में हिन्दुस्तान अपना एक नया भविष्य लिखने जा रहा है. हर राज्य में चुनाव हो रहे है और उनमे पश्चिम बंगाल भी शामिल है लेकिन सबसे ज्यादा विवादित राज्य भी इन चुनावों में यही रहा है जिसे लेकर के सोशल मीडिया पर कई सारे विडियो जारी हुए. नेताओं की गाडी पर पथराव हुए और ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी पर इसके आरोप भी लगे है. अब अगला आरोप लगाने वाला कोई नेता नही बल्कि चुनाव आयोग का ही अधिकारी है. आपको बता दे इन दिनों में बिहार में चुनाव का कार्यभार अजय नायक के पास है जो 1985 बीच के एक आईएएस अधिकारी है.

उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में ऐसे हालत बन चुके है जैसे कभी 10 साल पहले बिहार में थे. पहले वहाँ पर केन्द्रीय बालो की तैनाती की जरूरत पड़ती थी और अब पश्चिम बंगाल में पड़ती है. पुलिस ने लोगो का जनता का विश्वास खो दिया है जिसके बाद ऐसा करना पड़ रहा है.

ममता बनर्जी ने अजय नायक के इस बयान पर सख्त आपत्ति जताई है और उन्हें पश्चिम बंगाल से भेजने के लिए भी दरख्वास्त की है लेकिन ये तो अब चुनाव आयोग पर ही निर्भर करेगा कि वो क्या फैसला ले पाता है? ये अपने आप में काफी संवेदनशील मसला है क्योंकि ममता बनर्जी पर शुरू से ही तानाशाह रवैया अपनाने के आरोप लगते है.

चाहे केंद्र की नीतियों को राज्य में लागू होने से रोकने को लेकर के हो या फिर बंगाल में सीबीआई को कार्य करने में अड़ंगे लगाने को लेकर हो या फिर चाहे भाजपा कार्यकर्ताओं की जान से खिलवाड़ करने को लेकर हो, टीएमसी हमेशा से सवालों के घेरे में रही है और अब अजय नायक का ये बयान भी बंगाल की स्थिति को बयान करने के लिए काफी नजर आता है.