झारखण्ड और जोधपुर में रामनवमी के जुलूस पर पथराव, दो समुदायों में भारी झड़प

431

हिन्दू अपना बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार सेलिब्रेट कर रहे है और अब रामनवमी के जुलूस भी देश भर में निकाले जा रहे थे लेकिन ये कुछ लोगो को बिलकुल भी नही भाया जिसके चलते राजस्थान के जोधपुर शहर में और झारखंड के सिकनी गाँव में इस जुलूस पर शरारती लोगो के द्वारा पथराव किया गया. आरोप है कि ये पथराव मुस्लिम समुदाय के लोगो के द्वारा किया गया जिससे सामजिक समरसता बिगड़ गयी और दोनों तरफ से मारपीट होने लगी. सिकनी गाँव में काफी श्रीराम के जुलूस पर पत्थर फेंके गये जिसके बाद रिस्पोंस किया और बादमे ये झड़प में बदल गया.

इसके बाद वहां मौके पर मजिस्ट्रेट और कई सुरक्षा बल के जवान पहुंचे जिन्होंने भीड़ को काबू करने की कोशिश की लेकिन भीड़ के लोग उन पत्थरबाजो को पकड़ने की मांग करते रहे. वही जोधपुर में हालात काफी बेकाबू होते हुए नजर आये.

जी ग्रुप की रिपोर्ट के अनुसार शाम के वक्त जोधपुर के सूरसागर इलाके में बहुत ही भयानक झडप देखने को मिली जब रामनवमी के जुलूस पर पत्थर फेंकने पर जुलूस में शामिल युवको ने भी जबरदस्त तरीके से रिस्पोंस दिया और उन्हें भगा दिया लेकिन ये बात यही पर ही नही रूकी. इसने सूरसागर इलाके में काफी तोड़ फोड़ को जन्म दिया है. कुछ एक बाइक्स को भी जला दिया गया है और घर में घुसकर के तोड़फोड़ की गयी.

इसके बाद में पुलिस मौके पर पहुँची है और उन्होंने भीड़ को काबू करने के लिये आंसू गैस के गोले तक दाग दिए जिसके जरिये भीड़ को तितर बितर किया गया लेकिन कुछ युवक रह रहकर हर थोड़ी देर में आकर पत्थर फेंक रहे है और ये उनके आक्रोश को दिखा रहा है. इसी बीच कुछ लोगो को हिरासत में भी लिया गया और जोधपुर के सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत ने भी मौके पर पहुंचकर लोगो को शांत रहने की अपील की है लेकिन सवाल तो यही खडा होता है कि हिन्दू जुलूस इस तरह से निशाने पर क्यों है?