करीबियों पर छापे के बाद गुस्से में कमलनाथ, शिवराज सिंह को फँसाने की तैयारियां शुरू

423

पिछले कुछ दिनों से लगातार मध्यप्रदेश में तापमान गर्म है और इस गर्मी के पीछे की वजह है ईडी जो लगातार कमलनाथ के करीबियों के घर पर छापे मार रही है और इसमें उनके ओएसडी प्रवीण कक्कड़ भी शामिल है, इनके पास से अब तक 281 करोड़ रूपये तक बरामद हो चुके है और इससे कही न कही बहुत बड़ा नुकसान तो हुआ ही है उन लोगो को जिन्होंने पैसा जमा किया है लेकिन इससे कही न कही कांग्रेस पूरी तरह से घिर गयी है और अब इससे निकलने के लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ बेहद ही गुस्से में है और उन्होंने अन्दर ही अन्दर कुछ ऐसे फैसले ले लिये है जिनसे साफ़ मालूम चलता है कि वो कितने गुस्से में है?

मध्यप्रदेश की एसटीएफ ने सुप्रीम कोर्ट में जाने की शुरुआत कर दी है जहाँ पर उनसे व्यापम घोटाले की जांच फिर से करने की मांग की जायेगी और सीएम कमलनाथ ने खुद इससे जुडी हुई सारी जानकारियाँ तलब करने को कहा है. आपको बता दे पहले व्यापम घोटाले का पूरा मामला सीबीआई देख रही थी और आरोप लगे थे कि केंद्र सरकार के दबाव में आकर उन्होंने पूरे सबूत और जांच दबा दी है.

अब राज्य की सरकार पलट गयी और शिवराज की जगह कमलनाथ आये है और इतने समय से वो सीएम भी है मगर अब तक उन्होंने इन बातो पर ध्यान नही दिया. मगर जैसे ही उनके करीबियों पर ईडी ने छापेमारी की तो उन्होंने फिर से व्यापम का डर दिखाना शुरू कर दिया और क्योंकि उस वक्त मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान थे तो कही न कही इसकी आंच उन तक भी आ सकती है इसमें कोई शक नही है.

कमलनाथ खुद इसकी फाइल्स देख रहे है और जानकारियाँ तलब कर रहे है ऐसा कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा है और अगर ऐसा होता है तो हिन्दुस्तान की राजनीति में एक बार फिर से बदला पॉलिटिक्स का भयावह रूप देखने को मिलेगा जो लोकतंत्र के लिहाज से तो बिलकुल भी सही नही है.