कांग्रेस ने फैला दी एक हरी लाइट के आधार पर राहुल गाँधी की जान को खतरे की खबर, बादमे फर्जी निकली

579

राहुल गांधी ने अपना नामांकन आज अमेठी लोकसभा क्षेत्र से भरा. नामांकन भरने से पहले उन्होंने अपने राजनीतिक दांव चले और हवन आदि करके नामांकन की प्रक्रिया पूरी की. इसके बाद में राहुल मीडिया को संबोधित कर रहे थे और मीडिया को समबोधित करते समय राहुल गांधी पर एक हरे रंग की लाइट गिरने लगी. ये लाइट बिलकुल पॉइंट की तरह थी, बिलकुल उस तरह की लाइट जैसे किसी भी स्नाइपर गन से निशाना लगाते हुए बनती है. ऐसी लाइट एक नही बल्कि 7 बार बार बनी और ये सब लगभग 3 मिनट के भीतर भीतर हुआ. इसका फुटेज और तस्वीरे जैसे ही मीडिया में पहुंचे तो हर तरफ खलबली मच गयी.

इन सबके बीच कांग्रेस के द्वारा लिखी हुई एक चिट्ठी लीक हो गयी जिसमे लिखा था ‘राहुल गांधी के परिवार से पहले भी दो लोग राजीव गांधी और इंदिरा गांधी आतंकवादी हमले में शाहीद हो चुके है और अब फिर से इस तरह की हुई घटना काफी ज्यादा चिंताजनक है. ऐसे में आपकी सरकार की और गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी है कि आप उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करे.’ चिट्ठी वायरल हुई और इस पर गृह मंत्रालय ने रिपोर्ट बनाकर के भी पेश कर दी.

उनके द्वारा कहा गया कि ये कोई भी गन का या फिर स्नाइपर गन का निशाना नही था बल्कि राहुल गांधी के ही पत्रकार या फिर फोटोग्राफर के मोबाइल की लाइट थी जो बार बार उनके चेहरे पर गिर रही थी, इसमें किसी भी तरह की कोई भी साजिश नही थी.

अब कांग्रेस ने फजीहत होते हुए देखकर के कह दिया हमने तो कोई चिट्ठी लिखी ही नही थी. अब अगर कांग्रेस ने कोई  चिट्ठी लिखी ही नही है तो फिर ये जो चिट्ठी वायरल हुई उसका क्या? खैर अभी एक बात तो साफ़ हो गयी है कि राहुल गांधी पर कोई भी हमला करने की कोशिश नही की गयी थी और जो कुछ भी हुआ और जो भी बाते हुए सब आखिर में फर्जी निकला है.