कुलपति के घर में घुसे जेएनयू के छात्र, पत्नी को किया किडनैप

264

जेएनयू इन दिनों में विश्वविध्यालय की जगह अखाड़े में तब्दील हो गया है जहाँ पर प्रबंधन और छात्र संघ दोनों ही आमने सामने है. अब पूरा मामला विस्तार से जानते है जो एक महिला के अपहरण तक जा पहुंचा. रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष से जेएनयू कंप्यूटर आधारित प्रवेश परीक्षा शुरू करवाना चाह रहा है लेकिन नयी परीक्षा पालिसी लेफ्ट संघ के छात्रो को पसंद नही आ रही है. अगर रिपोर्ट्स की माने तो इससे लेफ्ट विंग के छात्रो का अपने पसंद के लोगो का कॉलेज में भरना रूक जाएगा क्योंकि कंप्यूटर आधारित प्रवेश परीक्षा बिलकुल पारदर्शी और एक्यूरेट होगी मगर इससे उन्हें दिक्कत हो रही है. इसके विरोध में छात्र संगठन के लोग पिछले एक हफ्ते से धरने पर बैठे थे.

छात्रो ने इसके बाद में कुलपति के घर तक मार्च निकाला और अचानक से मार्च निकालते हुए सैकड़ो लेफ्ट छात्रो की ये भीड़ कुलपति के घर में घुस गयी. वहाँ पर तोड़फोड़ की गयी और कुलपति की पत्नी को भी बंधक बनाया गया. कथित तौर पर उनके साथ में बदतमीजी हुई और अभद्र व्यवहार किया गया.

बताया जा रहा है की इस भीड़ ने कुलपति के आवास का गेट ही कर के फेंक दिया इससे आप भीड़ की भयंकरता को खुद ही समझ सकते है. हालांकि किसी न किसी तरह से कुलपति की पत्नी को छुडवा लिया गया है लेकिन इस तरह से हो रहे हमलो के बाद में जेएनयू कही से भी प्रबंधन और शिक्षको के लिए सुरक्षित नही है ये तो साफ़ हो गया है. एबीवीपी ने इस पूरे घटनाक्रम को नक्सली हमला करार दिया है और कहा है कि इन सबपर तुरंत कार्यवाही की जानी चाहिए. खैर अभी तो दोनों ही पक्ष अपने अपने पर डटे हुए है.

जेएनयू के वीसी ने खुद अपनी पीड़ा बयान करते हुए अपने आपको एक तरीके से स्तब्ध बताया है. आपको बता दे इससे पहले जेएनयू भारत विरोधी नारों की वजह से सुर्खियों में था और अब एक बार फिर से इस तरह के नक्सली हमले को लेकर के चर्चा में है.