नहीं रहे मनोहर पर्रिकर, 63 की उम्र में हुआ निधन

74

गोवा के मुख्यमंत्री, देश के पूर्व रक्षा मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता मनोहर पर्रिकर का देर शाम को निधन हो गया. पहले बीजेपी की तरफ से कहा गया कि उनकी तबीयत खराब है और अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है लेकिन सूरज के ढलते ढलते बात साफ़ हो गयी और आखिर में राष्ट्रपति के ट्वीट में उनके देहांत की खबर को कन्फर्म कर दिया गया और उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की गयी. मनोहर पर्रिकर लम्बे समय से कैंसर से जूझ रहे थे. उन्होंने गोवा से लेकर दिल्ली के एम्स और अमेरिका में भी अपना इलाज करवाया.

अमेरिका से लौटने के बाद में वो काफी स्वस्थ लग रहे थे. उन्होंने गोवा का बजट भी पेश किया. नाक में ड्रिप लगाये हुए वो पुल का निरीक्षण करने पहुंचे तो पूरा गोवा ही सकपका गया. ऐसी बुरी हालत जब इन्सान बिस्तर से उठ नही पाता है तब भी वो अपने कार्यो का निर्वहन कर रहे थे.

आपको बता दे मनोहर पर्रिकर देश के रक्षा मंत्री रह चुके है वो भी नरेंद्र मोदी सरकार के दौरान, उनके नेतृत्व में सेना ने अभूतपूर्व प्रदर्शन किया लेकिन बीजेपी द्वारा उनकी जरूरत गोवा में महसूस की गयी और उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया और वो पार्टी द्वारा दी गयी जिम्मेदारी निभा रहे थे. उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक जिम्मेदारी निभाई और अपने प्राण त्यागे. मनोहर पर्रिकर को अग्नाशय का कैंसर था जो बीच में कण्ट्रोल में था लेकिन पिछले कुछ दिनों में ये फिर से उन्हें दिक्कत करने लगा था और अभी आज और कल में तो उनकी हालत बहुत ही नाजुक हो चली थी जिसे उनका शरीर बर्दाश्त नही कर पाया और आखिरकार वो अपने परिवार और अपने देश को छोडकर के चले गये.

मनोहर पर्रिकर उन नेताओं में से एक थे जिन पर जीवन में कभी भी भ्रष्टाचार या फिर गुंडागर्दी का एक भी दाग नही लगा. उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में रहते हुए अपने आपको एक साफ़ छवि वाला नेता साबित किया और उनके नेतृत्व में ही सेना के द्वारा की गयी सर्जिकल स्ट्राइक और गोवा में हुए विकास कार्यो के लिए वो अपना नाम हमेशा के लिये अमर करवा गये है.