अमित शाह ने मायावती को दिया यूपी में बड़ा झटका

3547

अमित शाह को भारतीय राजनीति का आधुनिक चाणक्य कहा जाता है और भाजपा समर्थको को उन्हें इस शब्द से संबोधित करने से कोई गुरेज भी नही होता है. अक्सर अमित शाह अपनी पोलिटिकल नीतियों के चलते बीजेपी को अच्छे खासे टकराव वाले चुनाव में भी जिता देते है और उनका प्रभाव अब उत्तर प्रदेश में भी दिखाई देने लग गया है. 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अमित शाह ने मायावती को बहुत ही बड़ा झटका दे दिया है. मायावती की नेतृत्व वाली पार्टी बसपा के एक नही दो नही बल्कि 15 बड़े और दिग्गज नेताओं ने बीएसपी को छोडकर भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली है.

कहा जा रहा है कि ये जो भी नेताओं ने बीजेपी को ज्वाइन किया है उनके पीछे बहुत ही भारी और बड़ा जनसमर्थन है जो आने वाले चुनाव में सीधे सीधे बीजेपी को वोट करेगा. इस परिवर्तन से कुछ ही दिन पहले सपा, आरएलडी और कांग्रेस के भी 28 नेताओं ने अपनी अपनी पार्टी छोडकर के बीजेपी को ज्वाइन कर लिया था.

अब सवाल ये उठ रहा है कि अगर महागठबंधन और कांग्रेस पार्टी अपने जनाधार वाले नेता ही खो देगी तो उन्हें वोट देने के लिये कड़ी कहाँ से मिलेगी? खैर बीजेपी का इन चुनावों में सबसे बड़ा झटका मायावती को ही है क्योंकि एक साथ 15 बड़े जिला और राज्य स्तरीय नेताओं का यूँ चुनाव से ठीक पहले पार्टी को छोड़ देना कही न कही चुनाव में मायावती के लिये तो भारी पड़ने ही वाला है.

इसके पीछे बीजेपी की यूपी में कमान संभाल रहे गोवर्धन झड़फिया और उनके पीछे मौजूद अमित शाह का साफ़ तौर पर हाथ नजर आता है कि अगर दो पार्टियाँ गैर नीतिगत तरीके से सिर्फ इसलिए हाथ मिला रही है क्योंकि उन्हें बीजेपी को हराना है तो अब अमित शाह भी अपनी चाणक्य नीतियों का इस्तेमाल करने से परहेज नही करेंगे और इसका परिणाम मायावती एक बड़े झटके के रूप में महसूस कर भी चुकी है