छात्र ने जवानो के लिए बना दी मशीनगन, दुश्मन को ढूंढकर लगाती है निशाना

1268

पुलवामा हमला जब हिन्दुस्तान ने देखा उसके बाद से ही सभी लोग जहाँ बदला लेने की मांग में जुटे हुए थे वही दूर एक कोने में एक बच्चा बैठा था जिसने ठान लिया कि अब वो ऐसा कुछ करेगा जिससे कि सेना की मदद हो सके. छात्र का नाम है विशाल और ये मेकेनिकल इंजीनियरिंग का छात्र है, जो वाराणसी से अपनी पढ़ाई कर रहा है. विशाल ने जब सेना पर इस तरह की विपदाए आते हुए देखी तो उसे लगा उसकी पढ़ाई और इंजीनियरिंग का इस्तेमाल करके कुछ किया जा सकता है.

विशाल ने एक अलग तरह का यंत्र बनाया है जो बिलकुल स्मार्ट मशीन गन की तरह काम करेगा. इसे आर्मी के केम्पो के बाहर लगाया जा सकता है, उस वक्त लगाया जा सकता है जब वो लोग सो रहे हो. जैसे ही बाहर की तरफ से कोई हलचल होगी तो ये मशीन गन उसे डिटेक्ट करेगी और फिर उसे ढूंढकर के उस पर फायर कर देगी.

अब आप पूछेंगे कि ये कही फौजियों को तो हानि नहीं पहुंचा देगी? तो दरअसल ये एक चिप पर आधारित मशीन गन है जो आधुनिक फ्रीक्वेंसी बेस्ड काम करती है. जवानो को अपने कपड़ो में एक चिप लगा लेनी होगी. ये मशीन गन उनकी तरफ फायर नही करेगी जो लोग ये चिप लगा रखे होंगे जबकि ये उन सभी का नामो निशान मिटा देगी जो आस पास इस चिप के बिना मौजूद होंगे. ये अपने आप में काफी उन्नत हथियार साबित हो सकता है अगर डीआरडीओ इसे और ज्यादा भरोसेमंद और उन्नत बनाने पर काम करे.

हालांकि दुर्भाग्य ये है कि देश में कई आविष्कार करने वाले स्टूडेंट्स को देश में ही सम्मान नही मिलता है जिसके चलते वो सीमाओं के पार देखते है और बादमें उन्हें अमेरिका, जापान और जर्मनी जैसे देशो के द्वारा या फिर उनकी कम्पनियों के द्वारा अच्छे पैकेज पर हायर कर लिया जाता है.