संसद में बोले मुलायम मोदी बने फिर से प्रधानमंत्री, सोनिया गांधी ने मुंह फेरा

791

आज संसद का आखिरी दिन था, सदन के पूरे सत्र के दौरान आरोप प्रत्यारोपो का दौर चला लेकिन आखिरी दिन में समाजवादी पार्टी के निर्माणकर्ता और पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने जो किया उसे सुनकर पूरा सदन तालियों की गडगडाहट से गूँज उठा. मुलायम सिंह सोनिया गांधी के नजदीक ही बैठे थे. अपनी बारी आने पर वो खड़े हुए और मंद मंद स्वर में अपने भाषण की शुरुआत की, मुलायम सिंह ने कहा ‘ सभी को साथ लेकर के चलना बेहद ही मुश्किल काम है क्योंकि मेरा तो अनुभव रहा है लेकिन आपने जिस तरह से सभी का साथ दिया और सबको साथ लेकर के चले उसकी प्रशंसा होनी चाहिये.’

मुलायम सिंह ने अपनी बात को आगे बढाते हुए कहा ‘ मैं जब भी आपसे किसी काम के लिये मिला तो आपने तुरंत वो काम करने का आदेश दिया, आप सबको साथ लेकर के चले मैं चाहता हूँ आप जितने भी लोग है सभी लोग दुबारा से जीतकर के आये और मोदी जी आप भी दुबारा से प्रधानमंत्री बने’ मुलायम सिंह की ये बात सुनते हे बीजेपी खेमे ने बड़े ही तेजी के साथ तालियाँ और टेबल पीटने शुरू कर दी सदन का माहौल ही रंगीन सा हो गया लेकिन इस दौरान सोनिया गांधी का मुंह उतर गया.

सोनिया गांधी भाषण के दौरान मुलायम सिंह को देख रही थी लेकिन जैसे ही मुलायम सिंह ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की वकालत की तो उन्होंने दूसरी तरफ मुंह फेर लिया, मानो इशारे इशारे में वो खुदको इस विचार से अलग कर रही हो. मुलायम सिंह के इस बयान का नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़कर के अभिवादन किया और पूरे देश ने इसे देखा. इसके बाद मुलायम सिंह बैठ गये. इन दिनों में मुलायम अपनी राजनीति के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे है.

जिस पार्टी को उन्होंने सींचा उस पार्टी को उनके ही बेटे ने उनसे छीन लिया और उन्हें दूसरी ओर धकेल दिया, उनके भाई शिवपाल यादव जो पार्टी के प्रमुख सहयोगी थे वो भी अलग मोर्चा बनाकर के लड़ रहे है और उनके बेटे ने उनकी ही 25 साल पुरानी शत्रु बसपा से भी हाथ मिला लिया जिसके चलते मुलायम सिंह अन्दर ही अन्दर विचलित रहते है. इसी बीच सदन में खड़े होकर मुलायम सिंह का ऐसा बयान देना उत्तर प्रदेश की राजनीति को एक नये मोड़ पर लाकर के खड़े कर देगा.