सुप्रीम कोर्ट ने ममता सरकार को लताड़ा, कहा ‘पूछताछ में क्या दिक्कत है?’

2686

सीबीआई और बंगाल पुलिस विवाद में ममता सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने करारा झटका दे दिया है. आपको बता दे शारदा चिटफंड घोटाला मामले में पूछताछ करने के लिये सीबीआई बंगाल पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुँची थी लेकिन वहाँ पर सीबीआई के ही अफसरों को गिरफ्तार कर उन्हें बेइज्जत किया गया. इसमें ममता बनर्जी का भी पूरा समर्थन रहा जिसके खिलाफ सीबीआई सुप्रीम कोर्ट गयी जिसकी सुनवाई कल सोमवार को होनी थी लेकिन इसे मंगलवार के लिये टाल दिया गया था. दोनों पक्षों को सुनने के बाद में फैसला पूरी तरह से सीबीआई के पक्ष में आया है.

यहाँ सुप्रीम कोर्ट ने ममता सरकार को भी लताड़ लगाते हुए पूछा है कि आपके कमिश्नर राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट के सामने क्यों पेश नही हो सकते है? इसमें भला बंगाल सरकार को क्या आपत्ति है? सुप्रीम कोर्ट का ये स्टेटमेंट बंगाल सरकार के लिये करारी चोट है और उनके अलोकतांत्रिक रवैये को भी उजागर करता है.

सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही साथ में बंगाल पुलिस कमिश्नर को सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश भी दे दिया है और बड़ी बात ये है कि इस बार राजीव कुमार को बंगाल में नही बल्कि बंगाल के बाहर शिलोंग में पेश होना होगा. हालांकि दोषी साबित होने तक राजीव कुमार की गिरफ्तारी नही हो सकेगी. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने अपनी तरफ से नोटिस भी इशू कर दिये है जिनमे कोर्ट की अवहेलना के सम्बन्ध में जवाब मांगे गये है और इसके बाद ममता बनर्जी बिलकुल ही बेकफुट पर आ गयी है और कोई भी महागठबंधन का नेता उनका समर्थन इस फैसले के खिलाफ करने से बच रहा है.

आपको बता दे सीबीआई के अफसरों को बंगाल में सरेआम गिरफ्तार किया गया था और इसके बाद में हर तरफ ये फोटोज वायरल हो गयी जिसके बाद लोगो ने ममता बनर्जी की तुलना तानाशाह लोगो से करनी शुरू कर दी जो सिर्फ नरेंद्र मोदी की सत्ता को हथियाकर देश में भी वैसी ही तानाशाही लाना चाहती है जहां लोकतांत्रिक मूल्यों की कोई इज्जत न हो.