घोटाला आरोपी लालू प्रसाद यादव को कोर्ट ने दी जमानत

744

बिहार की राजनीति में कभी कद्दावर नेता रहे लालू प्रसाद यादव इन दिनों अपनी जिदंगी के बहुत ही बुरे वक्त से गुजर रहे है. साल 2017 में ही उन्हें चारा घोटाला केस में दोषी करार दे दिया गया था और उसके बाद से ही वो जेल में थे और अब लालू एंड फैमिली पर एक और केस चल रहा था जिसमे लालू प्रसाद यादव के अलावा उनके परिवार के लोग राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव भी आरोपी थे. दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में आईआरसीटीसी स्कैम से जुडी सुनवाई चल रही थी और लालू प्रसाद के लिए जमानत की मांग थी जिसे अदालत ने 1 लाख रूपये के निजी मुचलके पर स्वीकार कर लिया है. लालू प्रसाद यादव की खराब तबीयत और पर्याप्त सबूत न होने के आधार पर ये जमानत माँगी गयी थी जिसे कोर्ट ने मान लिया है और लालू प्रसाद यादव समेत उनकी पत्नी और बेटे को भी आईआरसीटीसी घोटाले मामले में जमानत देदी है.

हालांकि सीबीआई की तरफ से लालू प्रसाद यादव की जमानत का विरोध किया गया था. सीबीआई का कहना है कि ये जमानत मिलने से केस को प्रभावित करने की कोशिश हो सकती है. कोर्ट ने अभी जमानत दे दी है और इसके लिए अगली सुनवाई की तारीख 11 फरवरी तय की है जब दोनों ही पक्षो को अपने अपनी अपनी तरफ से सबूत और तथ्य पेश करने होंगे.

आपको बता दे मामला क्या है? दरअसल ये रेलवे से जुड़ा हुआ एक घोटाला है जिसमे ठेके पर एक तीन एकड़ की जमीन किराए पर दी गयी थी और इसमें रिश्वतखोरी का मामला सामने आया था. इस पूरे मामले में सीबीआई और ईडी ने कई लोगो को आरोपी बनाया जिसमे लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी का भी नाम है. फ़िलहाल तो लालू प्रसाद यादव काफी ज्यादा बीमार चल रहे है और उनकी हालत खराब होने के चलते वो अदालतों की पेशी पर भी बमुश्किल या फिर पहुँच ही नही पा रहे है.

हालांकि इस फैसले के बाद से आरजेडी और उसके समर्थको में काफी ख़ुशी का माहौल है और वो इस जमानत को एक जीत के तौर पर लेते हुए दिख रहे है जबकि सोशल मीडिया ने इसे घोटाले में लालू यादव को बच निकलने का रास्ता करार दे दिया है.