जियो के बाद मुकेश अम्बानी एक और बड़ा काम करने वाले है, सुनकर मजा आ जायेगा

1085

मुकेश अम्बानी की दूरदर्शिता से सभी बहुत ही अच्छे तरीके से प्रभावित है. बंटवारे के बाद उन्होंने काफी उंचाइयां हासिल कर ली है और जियो के लांच के बाद से तो मुकेश अम्बानी ने अपनी जिन्दगी का सबसे बड़ा दांव सफलतापूर्वक खेल लिया और वो टेक दुनिया के टायकून कहे जाने लगे. जियो के आते ही बड़ी बड़ी टेलिकॉम कम्पनियां पत्तो की तरह ढह गयी और हिन्दुस्तान में डाटा के इस्तेमाल का तरीका ही बदल गया. जियो की अपार सफलता के बाद अब मुकेश अम्बानी की नजर तेजी से बढ़ती हुई ई कॉमर्स इंडस्ट्री पर पड़ गयी है और वो रिलायंस की तरफ से नये ई कोमर्स प्लेटफॉर्म के लांच की घोषणा भी कर चुके है.

ये कम्पनी पूर्ण रूप से हिन्दुस्तानी होगी और विदेशी कम्पनियों अमेजन और फ्लिप्कार्ट को कड़ी टक्कर देगी. छोटे छोटे व्यापारी ऑनलाइन बिक्री से काफी परेशान है क्योंकि उनकी बिक्री कम हो गयी है और ऐसे में रिलायंस का सबसे मूल उद्देश्य इन छोटे छोटे व्यपारियो को एक साथ जोड़कर एक प्लेटफॉर्म पर लाना है.

पहले चरण में रिलायंस के शोपिंग प्लेटफॉर्म पर 10 हजार से भी ज्यादा स्टोर वालो को लाया जायेगा और 6500 शहरो और कस्बो को जोड़ा जाएगा. यहाँ पर वही सब उपलब्ध करवाने की कोशिश रहेगी जो सब अमेजन और फ्लिप्कार्ट पर उपलब्ध होता है. मुकेश अम्बानी के इस इंडस्ट्री में कदम रखने का मतलब है ई कॉमर्स इंडस्ट्री में कम्पीटीशन काफी बढ़ने वाला है और इससे फायदा ग्राहकों को ही मिलने वाला है क्योंकि इससे बाकी कम्पनियां भी अपना प्रॉफिट कम करके रिलायंस के नये शोपिंग प्लेटफॉर्म से मुकाबला करने की कोशिश करेगी. हालांकि ये खेल मुकेश अम्बानी के लिये इतना आसान नही होने वाला है क्योंकि एयरटेल और आईडिया को हरा देना आसान था आखिर वो देशी कम्पनियां थी और उनके पास में उतनी फंडिंग नही थी जबकि अमेजन के पीछे जेफ़ बेजोस है जो दुनिया के दुसरे सबसे अमीर शख्स है.

फ्लिप्कार्ट की पेरेंट कम्पनी वालमार्ट है जो भी अरबो का साम्राज्य रखती है तो संभव है कि आने वाले वक्त में आप दो नही बल्कि तीन तीन बड़े ई कोमर्स प्लेटफोर्म देखे और इससे आपको ही फायदा होने वाला है क्योंकि अब और भी ज्यादा डिस्काउंट के साथ शोपिंग होने की संभावनाए बढ़ेगी और देशी कम्पनी पर सरकार के प्रतिबंधो में भी कमी होती है.